हिमाचल प्रदेश के भुंतार में घूमने लायक 5 जगहें

By | August 19, 2021

हिमाचल प्रदेश के भुंतार में घूमने लायक 5 जगहें – जैसा कि आप सभी जानते होंगे कि हिमाचल प्रदेश पर्यटन के लिहाज से एक बहुत ही अच्छा राज्य है। यहां पर ऐसी बहुत सारी जगह है जहां पर पर्यटन करने का अनुरोध दिलचस्प बन सकता है। कुल्लू से लगभग 10 किमी दूरी पर स्थित भुंतार शहर भी इन जगहों में से एक है।

जहां पर आपको हरे-भरे वातावरण, वनस्पतियों एवं जीवों को देखने का अवसर प्राप्त होगा। भुंतार शहर से मनाली भी कुछ ही दूरी पर स्थित है। यहां पर जगन्नाथ मंदिर और विश्वेश्वर महादेव मंदिर काफी प्रसिद्ध है। इस आर्टिकल में हम आपको हिमाचल प्रदेश के भुंतार में घूमने लायक 5 जगहें बताने जा रहे हैं।

Read More – World’s Top 10 Dangerous Places

भुंतार में व्यास नदी भी बहती है, जिसमें पर्यटक व्हाइट वाटर राफ्टिंग का मजा लेते हैं। गर्मी के समय इस शहर के पास कैंपिंग करने के लिए रिलैक्सेशन प्वॉइंट भी बनाया गया है। इसके साथ ही साथ यहां पर ऐसे बहुत सारी जगह है, जहां पर घूमना आपके लिए काफी बेहतर साबित होगा। पर्यटक स्थल एवं दर्शनीय स्थल के रूप में भुंतार का अपना अलग ही महत्व है।

भुंतार कैसे पहुंचें?

यदि आप हवाई मार्ग द्वारा भुंतार पहुंचना चाहते हैं तो इसके लिए आपको भुंतार हवाई अड्डे का टिकट कटाना होगा। आप चंडीगढ़, धर्मशाला, नई दिल्ली और शिमला जैसे जगहों से यहाँ के लिए टिकट कटा सकते हैं। इसके साथ ही साथ यदि आप रेल मार्ग द्वारा यहां पहुंचना चाहते हैं, तो पठानकोट के लिए टिकट लेना होगा। पठानकोट के लिए भारत के कई बड़े शहरों से ट्रेन उपलब्ध है। इसके साथ ही साथ यदि आप सड़क मार्ग द्वारा बस से भुंतार शहर पहुंच सकते हैं। चंडीगढ़ हरियाणा और जम्मू जैसे शहरों से बस के माध्यम से भुंतार शहर पहुंचा जा सकता है।

हिमाचल प्रदेश के भुंतार में घूमने लायक 5 जगहें:

हिमांचल प्रदेश के भुंतार में घूमने लायक सबसे अच्छी जगह की तलाश कर रहे हैं तो नीचे बताए गए यह 5 जगह आप के पर्यटन के अनुभव को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

1.जगन्नाथ मंदिर

यदि आप फोन तार शहर में किसी मंदिर में दर्शन करना चाहते हैं तो जगन्नाथ मंदिर आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। यह भुवनेश्वरी देवी का स्वर्गीय निवास है जो भुंतार से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर एक पहाड़ी पर स्थित है। यह समुद्र तल से 5000 फीट की ऊंचाई पर है, जहां से आप कुल्लू शहर की खूबसूरती को देख सकते हैं। यहां पहुंचने का रास्ता बिल्कुल ऊपर की ओर खड़ा है, इसीलिए ऊपर चढ़ते समय आपको सावधानी बरतनी पड़ेगी।

2. विश्वेश्वर महादेव मंदिर:

विश्वेश्वर महादेव मंदिर कुल्लू के सभी मंदिरों में से सबसे प्रसिद्ध मंदिर है, जो पत्थर की नक्काशी समतल शिकरा और चमत्कारिक मूर्तियों के लिए जाना जाता है। बहुत सारे लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं। यूं कहिए कि भुंतार पहुंचने के तुरंत बाद ही यहां पर पर्यटक दर्शन के लिए पहुंचते हैं क्योंकि यहां पर पहुंचना काफी आसान है। यह भुंतार हवाई अड्डे से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

3. हिमालय नेशनल पार्क

कुल्लू के भुंतार इलाके में विशाल क्षेत्र में फैले हुए हिमालय नेशनल पार्क को जवाहरलाल नेहरू ग्रेट इंडियन नेशनल पार्क के नाम से भी जाना जाता है। जहां पर आपको बर्फ से ढकी चोटियां फूल से ढके अल्पाइन घास के मैदान और भव्य ग्लेशियर के साथ शंकुधारी जंगलों को देखने का मौका मिलता है। इसके साथ ही साथ यहां पर विभिन्न प्रकार के कई जानवर जैसे भूरे भालू, काले भालू, रीसस मकाक, लंगूर, जंगली भेड़ और हिमालयन कस्तूरी हिरण भी पाए जाते हैं।

4. बिजली महादेव मंदिर

बिजली महादेव मंदिर भुंतार के करीब माथन पर्वत पर समुद्र तल से 2000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। भगवान शिव को समर्पित इस मंदिर को कहां से शैली में बनाया गया है। इस मंदिर के बारे में रोचक तथ्य यह है कि जब आप प्रकाश की चमक से गुजरते हैं तो यहां पर स्थित शिवलिंग टुकड़ों में बँटा हुआ दिखाई देता है। कई भक्तों यह भी मानते हैं कि यदि आप खेती करने के लिए भगवान शिव से यहां पर सच्चे मन से प्रार्थना करते हैं तो बारिश भी हो सकती है।

5. आदि ब्रह्मा मंदिर

भुंतार से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर खोखन गांव में आदि ब्रह्मा मंदिर स्थित है। इस मंदिर परिसर के ठीक बीच में भगवान ब्रह्मा की एक भव्य प्रतिमा मौजूद है। यह मंदिर विशाल लकड़ी का बना हुआ है। इस मंदिर में एक रथ है, जिसमें 11 चांदी, 2 पीतल और एक अष्टधातु की मोहरें हैं।