जम्मू-कश्मीर के अवंतीपुर में घूमने लायक जगहें

By | August 15, 2021

जम्मू-कश्मीर के अवंतीपुर में घूमने लायक जगहें – जैसा कि आप सभी जानते होंगे कि जम्मू कश्मीर को भारत का स्विट्जरलैंड कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि वहां पर बर्फीली वादियां खूबसूरत घाटी और हरे-भरे पेड़ पौधे नजर आते हैं। इसके साथ ही साथ कश्मीर के श्रीनगर की डल झील भी काफी मशहूर है जिसे देखने के लिए दुनिया भर से पर्यटक यहां आते हैं।

इसके साथ ही साथ जम्मू में कई ऐसे धार्मिक स्थल हैं, जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। यहाँ का भोजन और संस्कृति का भी अपना अलग महत्व है। यदि आप जम्मू-कश्मीर की यात्रा पर गए हैं, तो अवंतीपुर में घूमना बिल्कुल ना भूलें। इस आर्टिकल में हम आपको जम्मू-कश्मीर के अवंतीपुर में घूमने लायक जगहें बताने जा रहे हैं।

अवंतीपुर जाने का सही समय क्या है?

यदि आप जम्मू कश्मीर के अवंतीपुर की यात्रा करना चाहते हैं तो इसके लिए अप्रैल से लेकर नवंबर तक का समय अच्छा रहता है। हालांकि सर्दियों के मौसम में यहां का तापमान 0℃ तक चला जाता है। इसीलिए अवंतीपुर की यात्रा करते समय अपने साथ गर्म कपड़े जरूर लेकर आएं। इसके अलावा गर्मी के समय में यहां का औसत तापमान 25℃ तक रहता है इस दौरान आप हल्के सूती कपड़े लेकर आ सकते हैं।

कैसे पहुंचें अवंतीपुर?

यदि आप हवाई मार्ग द्वारा अवंतीपुर पहुंचना चाहते हैं तो इसके लिए आपको श्रीनगर एयरपोर्ट का टिकट कटाना होगा। श्रीनगर एयरपोर्ट से अवंतीपुर की दूरी 29 किलोमीटर के लगभग है। इसके साथ ही साथ आप सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली, चंडीगढ़, जम्मू और श्रीनगर से अवंतीपुर पहुंच सकते हैं। इसके अलावा रेल मार्ग से अवंतीपुर पहुंचने के लिए आपको जम्मू रेलवे स्टेशन का टिकट कटा ना होगा। इसके बाद आप यहां से बस या कैब के जरिए अवंतीपुर पहुंच सकते हैं।

Read More – World’s Top 10 Dangerous Places

जम्मू-कश्मीर के अवंतीपुर में घूमने लायक जगहें

यदि आप अवंतीपुर में किसी दर्शनीय स्थल की तलाश में हैं, तो लगभग 855 ई० में बना हुआ अवंतीस्वामी का मंदिर सबसे शानदार इमारत है। इससे कुछ किलोमीटर की दूरी पर अवंतीश्वरा मंदिर भी स्थित है, जो भगवान शिव को समर्पित है। इन दोनों मंदिरों का निर्माण राजा अवंती वर्मन द्वारा कराया गया था। इस जगह पर तुलियन झील भी है, जो सर्दी के मौसम में बर्फ से जमी रहती है। जम्मू कश्मीर के अवंतीपुर में कई सारे दर्शनीय स्थल एवं पर्यटन करने वाली जगहें हैं। इनमें से कुछ प्रमुख जगहों के बारे में हम आपको नीचे बताने जा रहे हैं।

1. अवंतीस्वामी मंदिर

अवंतीस्वामी मंदिर ग्रीकवास्तुशैली में बना हुआ है, जो भगवान विष्णु को समर्पित है। यह मंदिर वास्तव में बहुत ही अद्भुत दिखाई देता है। इस मंदिर के सभागृह में भगवान विष्णु की मूर्ति पूजा की जाती है। इस मंदिर की वास्तुशैली और कला का नमूना इसकी नक्काशी और मूर्तियों पर दिखाई देता है। यह मंदिर जमीन से 20 फीट अंदर है और आप इसके सबसे सिर्फ हिस्से को ही साफ तरीके से देख सकते हैं। यह मंदिर बलुआ पत्थर से बना हुआ है जो समय के साथ दुबला होता जा रहा है। इसी चलते यह मंदिर साफ तरह से दिखाई नहीं देता है।

2. अवंतीश्वरा मंदिर

जोबरोर गांव में स्थित भगवान शिव को समर्पित अवंतीश्वरा मंदिर का दरवाजा बहुत ही खूबसूरत दिखाई देता है। इस मंदिर में भगवान शिव के एक प्रमुख मूर्ति के अलावा चार अन्य छोटी मूर्तियां स्थापित हैं। हालांकि समय के साथ साथ इस मंदिर का अस्तित्व भी खत्म होते जा रहा है लेकिन भगवान शिव की श्रद्धा रखने वाले लोग अभी भी यहां पर पूरी आस्था के साथ पूजा अर्चना करते हैं। 9 वीं शताब्दी में बने हुए इस मंदिर की नक्काशी श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करती हैं।

3. तुलियन झील

जंस्कार और पीर पंजाल पहाड़ियों की श्रृंखला में बहता हुआ तुलियन झील समुद्र तट से 3353 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जो बर्फ से ढका हुआ है। यह झील पहलगाम से 16 किलोमीटर और बैसरन से भी 16 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। हालांकि बैसरन से यहां पहुंचने का रास्ता थोड़ा मुश्किल है। यदि आप कश्मीर की असली खूबसूरती देखना चाहते हैं तो तुलियन झील को देखना एक दिलचस्प अनुभव हो सकता है।

अवंतीपुर के आसपास अन्य दर्शनीय स्थल:

यदि आप अवंतीपुर घूमने गए हैं तो इसके आसपास के जगहों पर घूमना भी काफी दिलचस्प साबित हो सकता है। अवंतीपुर के पास ही श्रीनगर में आपको कई सारे प्राकृतिक स्थल देखने को मिलेंगे। आपको बता दें कि श्रीनगर की खोज सम्राट अशोक द्वारा किया गया था जो झेलम नदी के तट पर बसा हुआ है। कश्मीर घाटी एवं डल झील के सौंदर्य को श्रीनगर में देखा जा सकता है।

इतना ही नहीं श्रीनगर में बना हुआ मुगल गार्डन, शालीमार बाग, निशात बाग, चश्मे शाही और परी महल में घूमना भी आपके लिए अच्छा रहेगा। इसके साथ ही साथ अवंतीपुर से लगभग 70 किलोमीटर दूर स्थित पहल गांव में एक हिल स्टेशन है। यहीं से अमरनाथ यात्रा भी शुरू होती है।